Stay Conneted

header ads

NGO Management in Hindi

NGO Management - 

नमस्कार दोस्तों आपका marketingfunda.in में स्वागत है। आज के इस पोस्ट में हम NGO management के बारे में बात करेंगे । वैश्विक अर्थव्यवस्था में NGO कृषि एवं सर्विस सेक्टर के बीच सेतु का काम कर रहे हैं NGO का कार्यक्षेत्र वैश्विक स्तर तक फैला है इसलिए NGO management में रोजगार की काफ़ी सम्भावना है। इस विषय के सभी भाग को हम NGO management in hindi में बताएंगे।


  NGO management in Hindi


 NGO Management 

वर्तमान समय में किसी एनजीओ अर्थात गैर सरकारी संस्था का मैनेजमेंट एक बहुत महत्वपूर्ण काम हो गया है एनजीओ द्वारा प्रतिवर्ष अरबों रुपए की सुविधाएं एवं सेवाएं करोड़ों लोगों तक पहुंचाई जा रही है ।

 वैश्विक अर्थव्यवस्था में एनजीओ कृषि एवं सर्विस सेक्टर के बीच सेतु का काम कर रहे हैं Ngo का कार्यक्षेत्र वैश्विक स्तर तक फैला है इसी को ध्यान में रखते हुए कहा जा सकता है कि एनजीओ मैनेजमेंट के क्षेत्र में रोजगार की बहुत  उजली संभावना है।

नवीनतम आंकड़ों के अनुसार देश में वर्तमान लगभग 14000 से अधिक एनजीओ कार्यरत हैं। जिनमें से 53% ग्रामीण क्षेत्रों में 17% ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट डेवलपमेंट के क्षेत्र में 10 % सोशल जस्टिस अपवरमेन्ट में 6% हेल्थकेयर पब्लिक  सेक्टर में और सब यूथ और स्पोर्ट्स सेक्टर में कार्यरत है यह भी माना जा रहा है। कि आने वाले दिनों में एनजीओ की बहुत तेजी से मांग बढ़ेगी। और उसके साथ ही इसमें ऐसे लोगों का रोजगार मिलेगा ।
जो लगन के साथ इन क्षेत्रों में कार्य करने की गहरी रुचि सोच एवं निष्ठा रखते हैं 

क्या होता है NGO

गौरतलब है कि एक स्वमसेवी संस्था की तरह कार्य करता है एनजीओ खोलने के आवेदन के साथ किसी क्षेत्र का चुनाव करना पड़ता है जैसे महिला शक्तिकरण ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा अस्तर चिकित्सा सुविधाएं बाल श्रम बेघर बच्चों बुजुर्गों का पुनर्निवास सम्बंधित क्षेत्र ।

एनजीओ की कार्य प्रकृति टीमवर्क के समान मानी जाती है एनजीओ द्वारा अच्छा कार्य करने पर उसी राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार के साथ ही सरकार था।
विश्व बैंक द्वारा भी अच्छा अनुदान मिलने की संभावना बन जाती है NGO management द्वारा पूरी वैश्विक सामाजिक तथा आर्थिक व्यवस्था को समझने और व्यवस्थित करने में बहुत मदद मिलती है।
एनजीओ में वैश्विक परिवेश को देखकर इस क्षेत्र में मैनेजमेंट कोर्स की बहुत अधिक मांग है ।

कैसे करें इस क्षेत्र में प्रवेश 

भारत विभिन्न संस्थाओं द्वारा पीजी डिप्लोमा इन एनजीओ मैनेजमेंट कोर्स संचालित किए जा रहा है ।उसके लिए उम्मीदवार को स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक है।
 NGO management के पाठ्यक्रम में सामाजिक उधमसीलता नेतृत्व सीलता समुदाय विकास सूचनाओं का का प्रबंधन वित्त और मानव संसाधन प्रशासनिक और आर्थिक क्षमताओं की विश्लेषण की साथ ही वैश्विक मुद्दे और पर्यावरण मुद्दे की जानकारी बेसिक सामाजिक आर्थिक समाज की समस्त संस्था द्वारा सामाजिक मुद्दों पर आधारित अभियान आदि के बारे में बताया जाता है

कहां कहां है नौकरी के अवसर 

एनजीओ मैनेजमेंट का कोर्स करने के उपरांत ngo मैनेजर के लिये   सामुदायिक सेवा प्रदाता रिसर्च फेलो इन एनजीओ
वित्त तथा मानव संसाधन के गैर सरकारी संस्थान मे और विभिन्न ट्रस्टों आदि में रोजगार की संभावनाएं हैं।
एड्स महिला शक्तिकरण , ग्रामीण चिकित्सा सूखा और बाढ़ , बच्चों की शिक्षा जैसे अनेक मौको पर ngo मैनेजर की अपार सम्भावना है। 

वेतनमान

इन पदों पर अनुभव का खास ध्यान रखा जाता है। भारत में आधे से अधिक जनसंख्या कृषि पर निर्भर है। इसीलिए एनजीओ की जिम्मेदारी में दिन प्रति दिन बढ़ती ही जा रही है थोड़ा अनुभव को तो इस क्षेत्र में समाज सेवा के साथ-साथ लाखों रुपए कमाए जा सकते हैं । भविष्य में
NGO management के क्षेत्र में रोजगार की प्रबल संभावनाएं हैं 


प्रमुख मान्यता प्राप्त संस्थान



  अंतिम शब्द


उम्मीद है दोस्तो आपको यह लेख NGO management आपको पसंद आया होगा आपको इस विषय मे जानकारी NGO management in hindi में मिली ।कृपया टिप्पणी कर के जरूर हमको सूचित करें हमारे ब्लॉग marketingfunda.in को अपने email के माध्य्म से  सब्सक्राइब जरूर करे। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर अपने मित्रो के साथ साझा करें । मिलते है एक नए पोस्ट में ।

धयन्वाद 

Post a Comment

0 Comments